समर्थक

सोमवार, 18 मार्च 2013


अंतर्यात्रा




शब्द छूटे भाव की 
अनुरागिनी में हो गयी .
देह छूटी..  श्वास की अनुगामिनी
में हो गयी .
क्या भला बाहर में खोजूँ ?
क्यूँ भला और किस से रीझूं?
आत्मरस का स्वाद पा,
आत्मसलिल में हो निमग्न
आत्मपद की  चाह में ,
उन्मादिनी में हो गयी .
मैं तो अंतर्लापिका हूँ
कोई बूझेगा मुझे क्या?
जो हुए हैं 'स्व'स्थ स्वतः
उन महिम सुधि आत्मग्यों के
प्रेम के रसपान कि अधिकारिणी
मैं हो गयी,
शब्द छूटे भाव की
 अनुरागिनी मैं हो गयी
देह छूटी..   श्वास की अनुगामिनी
मैं हो गयी !
२२--1998








मैं सपने देखती हूँ इस जहां में कोई ऐसा छोर होगा
जहां भीड़ होगी और ही शोर होगा .
मधुर एकांत होगा और निर्भय शान्ति होगी
होगी भूख और प्यास होगी
तू होगा मैं , ही कोई संवाद होगा
धरा निशब्द होगी और गगन भी मौन होगा .


२५--०९

शनिवार, 2 मार्च 2013

समय  से यूँ हूँ परे आनंदमय आभास हूँ
मैं उमडते बादलों सा, सिन्धु का उल्लास हूँ
कल्पना हूँ ,कामना हूँ, या किसी की प्यास हूँ
चन्द्रमा  की चांदनी या फूल की वातास हूँ 
शाश्वती सौरभ भरी बासंती मधुमास हूँ
इन्द्रधनुषी रंगों सी रागिनीमय श्वास हूँ
भावना से सिक्त उर की एक बस उच्छ्वास हूँ!