समर्थक

गुरुवार, 13 जून 2013

श्री राधे 
 मूक हूँ अभिभूत हूँ !
युग युगांतर की तृषा से,त्राण पा अवधूत हूँ !
कृष्ण ने चाहा  उसे -
जिसने मितायी उस को दी! कृष्ण ने त्यागा उसे -
जिसने विदाई उसको दी !
कृष्ण की आह्लादिनी शक्ति-
 
जिसे राधा कहो !
कृष्ण की उन्मादिनी भक्ति-
 
जिसे राधा कहो !
कृष्ण,कर्षण कर सकी -
रमणीजिसे राधा कहो !
उस रमणी की चरण रज हूँ !
धूल हूँ !
मूक हूँ ,अभिभूत हूँ !
युग युगांतर की तृषा से त्राण पा अवधूत हूँ !
श्री दिनकर जोशीजी ने राधा -कृष्ण के दिव्य प्रेम मय सम्बन्ध पर एक पुस्तक लिखी है _"श्याम फिर एक बार तुम मिल जाते उसे पढ़ने के बाद जो अनुभूति हुई,उसी की अभिव्यक्ति है यह रचना .
.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें