समर्थक

गुरुवार, 16 अगस्त 2012
















राख का ढेर है तेरी हस्ती
खोज ले आत्मा में ही मस्ती






 




 


 


ह्रदय की घाटी









कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें