समर्थक

गुरुवार, 8 अगस्त 2013

कहाँ से आयें बदरा



क्षितिज पर छाये घटा,
             मन प्राण क्यूँ होते विव्हल ?
किसने दिए अवसाद..
                    दृगहो रहे क्य्युं यूं सजल ?
आते कहाँ से मेघ घिर ?
                    क्यूँ ढांप लेते चेतना?
मन प्राण परवश रोरहे
                   इतनी बढ़ी क्यूँ वेदना ?
भावना के भंवर में,
                   बुद्धि की नौका फंसी,
जब छटें आवेश ,
               सृष्टि मात्र ईश्वर की हंसी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें