समर्थक

गुरुवार, 8 अगस्त 2013

अभेदानंद

तुम हो अम्बर मैं दिगंबर भेद कैसा नाथ !
मोक्ष हो तुम मुक्ति हूँ मैं ऐसा अपना साथ .


२५--09

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें