समर्थक

गुरुवार, 2 मार्च 2017

गुनगुना के धुप बोली -गुनगुनालो साथ मेरे
            फुल बोले -महको थिरको ज़िन्दगी की जीत पे
                          बाजुओं में भर पवन बोली -गले मुझको लगा ले
                                         रूह मेरी फुसफुसाई -एक हैं हम, ज़मीन जन्नत एक कर लें Image may contain: flower, plant, nature and outdoor

1 टिप्पणी: