समर्थक

गुरुवार, 2 मार्च 2017

ज़िन्दगी हूँ मैं कभी न हार सकती 
                  बीज थी,उड़ कर हवा के संग मट्टी में मिली
                                बह गयी जल संग,गहरे अंध घन में,
                                            ली फिर अंगड़ाई  खोज रास्ता नव
तोड़ दी चट्टान सूरज से मिलन को 
                     दी हवा ने शह और मैं मुस्कुरायी 
                                        पौध बन के फूल फिर से खिलाऊंगी 
Image may contain: tree, plant, outdoor and nature

1 टिप्पणी: