समर्थक

गुरुवार, 24 अक्तूबर 2013

सच

23 September 2013 at 16:56

सच अक्सर कड़ुवा होता है
                       दुनिया गोरख धंधा है
जिसे खोज हो सच की
                         वह केवल एकाकी बंदा है
जो चाहे जग से कुछ भी,
                       है हर दम दयनीय सदा ..
अपने अंतर्जग से सुरभित
                         आत्म रमण चयनीय सदा ..

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें