समर्थक

गुरुवार, 24 अक्तूबर 2013

कृपा है

4 September 2013 at 13:17

कृपा है बनवारी की
                      कविता उनका खेल
                                           रचते हैं ब्रहमांड अनंत
                                                                  अपना उनसे मेल



No automatic alt text available.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें