समर्थक

गुरुवार, 24 अक्तूबर 2013

शिष्टाचार ..

27 August 2013 at 17:32
कौन चाहता है मिटे
जग से भ्रष्टाचार
दुःख मिले तब ही कहें
क्यों है भ्रष्टाचार
.सुख मिले तो कहें
यह है शिष्टाचार ..

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें