समर्थक

गुरुवार, 24 अक्तूबर 2013

परम सुख

4 September 2013 at 11:20

प्रहार जब जब मिलें
तिलमिलाता है अहम्
अहम् हम को नचाता,
चोट खाता है अहम्
अहम् से मुक्त हों,
तत्क्षण परम सुख प्रकट
आत्म सुख अभ्यास से,
टूटती माया विकट
जय श्री राधे!

Image may contain: bird, outdoor, water and nature

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें