समर्थक

बुधवार, 17 जुलाई 2013

अप्रत्याशित



न जाने कौन सा पल,
एक नया उपहार दे दे ..
न जाने कौन सा पल ,
कोई कडुवी याद दे दे ..
न जाने कितनी मंजिलें 
हैं हमारे रास्तों की ..
पता क्या कौन सी मंजिल 
हमें कुछ साथ दे दे ..
1981

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें