समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

शब्द रूठे


शब्द जब जब रूठ जाएँ
                  भाव फिर भी छाते जाएँ
                                स्वप्न पल पल मिटते जाएँ
                                                सत्य जब जब पास आयें ..
1983
Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें