समर्थक

शुक्रवार, 19 जुलाई 2013

लौ


एक लौ है
जलाली,मैंने
अपने अन्दर,कि
जो फूल मुझे मिलते हैं
तारीफों के ,
पास आते ही मेरे
राख में ढल जाते हैं
पर जो ,कांटे हैं मिले
 तानों के और कंकड़
अपमानों के ;
मेरे पास आके
पिघल जाते हैं
और मुझ में ही
 समां जाते हैं!

Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें