समर्थक

बुधवार, 17 जुलाई 2013

जीवन यात्रा


जल के प्रति पल पड़ती थापें,
कुछ मृदु तो कुछ कटु सी हैं ,
तरणि को एहसास भला क्या ,
जल क्या गहरा -उथला है !
तैर रही नाविक के बूते ,
हर पल संशय -दुविधा है 
पालें वे जो फूल रही हैं ,
कोरे मद में झूल रही हैं ,
जाने किसके आदेशों पर .
आगे -पीछे  झूम रही हैं ,
हर इक पल रोमांच भरा है ,
हर पल शंकित कम्पन है ,
किस तट पर पहुंचेगी तरणि ,
कभी पार लग पायेगी ?
कभी किसी पर छोड़ व्यथा सब 
भार मुक्त हो पायेगी ?
1981
 Photo: Good night world ♥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें