समर्थक

शुक्रवार, 26 जुलाई 2013

मन -मधुकर


मन मधुकर न धोखा खाना,
                  मान कमलिनी का रे कहना
चाहे कितना तू मंडराना ,
                  चाहे तू जितना इठलाना
दिन भर नूतन खेल रचाना,
                   पूर्व समय तू भूल न जाना
संध्या का अनुमान करा देंगे
                      तुझ को अनजाने मीत
नहीं मिलेंगी मुकुलित कलियाँ,
                        नहीं रहेंगे मोहक गीत
सुन -सुन तेरा एक ठिकाना,
                    पूर्व रात्रि तू भूल न जाना
निशा आगमन के पहले तू
                       कमल कोष में आजाना
मन मधुकर न धोखा खाना
                        सही ठिकाना भूल न जाना

1981Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें