समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

खोज


मैं फिर भटक न जाऊं
                  मेरे अनंत प्रेमी !
तू क्रूर तो नहीं फिर
                   क्यूँ मूक हो गया है ?
कितना पुकारती हूँ ..
                  तू फिर भी खो रहा है ..
यूँ तो मैं तेरी हूँ ..
                    फिर भी भटक रही हूँ ..
तू छिप गया है क्यूँ कर ?
                    मैं खोजती फिरी हूँ ..
1983

Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें