समर्थक

बुधवार, 17 जुलाई 2013

मुस्कान

कैसे समझाऊं ?
कि -मुस्कुराना ,
खुश होना नहीं होता .
कि -आंसू बहाना ,
ग़मगीन होना नहीं होता!.
कम से कम 
मेरे साथ तो 
ऐसा ही है ..
कि जब मैं 
छिल जाती हूँ 
अन्दर से ,
उधड़ने लगती हूँ ,
तो बस ,मुस्कराहट की 
रफ़ू शुरू कर देती हूँ ..!
और इस से भी काम न चले मेरा 
तो एक पैबंद ,बड़ा सा ,
लगाने लगती हूँ 
अपनी हंसी का !
1983

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें