समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

अंतर्द्वंद


री अवनि!
 क्यूँ छल रही
            आकाश को तू ?
                           घुमती -फिरती सतत
                                नियमित पथों पर
                              तू ,गगन के मध्य
                                 रह कर भी, अवनि ओ !
                                           छल रही नीले गगन को
                                                      वह गगन
पावन, विरल
             गंभीर रह कर ..
                 चाहता स्पर्श तेरा ही
                            निरन्तर ..
तू सदा ही क्रूर रह कर
                ओ अवनि !क्यूँ ?
                        कर रही पीड़ित सदा
                             प्रियवर गगन को ?


1983
Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें