समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

मुक्ति दे !


मुझे मुक्ति दे ,
          मेरे अच्युत !
              बंधन क्यूँ हो
                   जीवन मेरा ?
जीवन में ही
               मुक्ति दे ..
                    मृत्यु तो नहीं
                          द्वार मुक्ति का
                मुक्तिमय
                            जीवन कर दे ..
1983
Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें