समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

चेतना के द्वार



मूंद कर दृग द्वार खोलूँ चेतना के द्वार ,
मैं सुरभि सी आज डोलूँ बन्धनों के पार ,
मैं भुला कर विश्व सारा  तोड़ सब से मोह ,
सिमट कर प्राणों में अपने,छोड़ दूँ व्यामोह ,
फिर अनिल सी हो प्रवाहित, विचरूँ सब के द्वार
प्राणमय उच्छ्वास बन दूँ विश्व को निज प्यार ,
मूँद कर दृग द्वार खोलूं चेतना के द्वार ..
शुभ्र दामिनी सी दमक भ्रम बादलों के पार ,
मैं मिटा मस्तिष्क नभ का अज्ञानमय अँधकार ,
फिर गिरूँ आकाश से कर कान्ति  का श्रृंगार .
भस्म कर दूँ चिर निहित दुर्वृत्ति मय संसार ..
मूंद कर दृग द्वार खोलूँ चेतना के द्वार ..
मैं सुरभि सी आज डोलूँ बन्धनों के पार ..
1985

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें