समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

नियति


एक शौक रहा है मेरा -
                  साँपों को दूध पिलाने का ,
साँपों को मैंने पाला है ,
                    साँपों को दूध पिलाया है ,
बदले में एक नहीं, कई बार
                     बस सर्प दंश ही पाया है .
फिर भी ,सर्प विष पी लेती हूँ
                       और दूध पिलाती रहती हूं .
1983

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें