समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

पीना सीखो


जीना है तो पीना सीखो
                     पी पी कर के जीना सीखो
विष ग्रंथियाँ जो बन चुकी
                      ज़िंदगी में ,तुम उन्हें  पी लो
मत बाहर उगल दो ....
                          विष मय उपहार मत दो
दूसरों को ,तुम विष पीलो
                          जग को मधुर रस दो ....
1983Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें