समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

रात्रि के स्वर


रात्रि
एक भ्रान्ति
कितनी शान्ति
फिर भी, अंतर में क्रान्ति
अधिक मोहक ,अधिक सरला
नीरवता में गूँजा करते
मौन भाव कुछ
शयन हेतु यदि यही यामिनी
जागृत क्यूँ मैं ?
मौन अरे मैं हूँ किन्तु
ये कैसे स्वर हैं ?
मेरे अंतस से उमड़े ये कैसे रव हैं ?
एक श्रोता बन गया है भाव' मैं 'Photo: Good night world♥ sweet dreams my dear friends ..का
आ रही आलोचनाएँ हर दिशा से
'यह ' वही क्या जो हवा के साथ बह ले ?
'यह ' वही शायद जो झंझाओं को झेले
एक पल जो साथ रह कर दूर हो ले ..
खोज में संतोष की हर और डोले ..
मूक हो कर 'मैं ' मेरा सुनता रहेगा
रुठते स्वर ..
प्रात होने तक
अनिश्चित भाव होगा
सुन सकूँ फिर ,पर
कहाँ अवकाश होगा ?
1981

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें