समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

प्राण मेरे !

प्राण मेरे !
            खोजती हूँ
                   मैं तुझे ही
  आज भी मैं हूँ
                 अपरिचित ,
                  विश्व में इस !
तू कहाँ जा
            खो गया है
                       दिव्य मेरे !
आज भी
           मैं तो तुझे ही
                   खोजती हूँ ..!
प्राण मेरे !
                ज्ञात मुझ को,
                            भाव तेरा !
मैं स्वयं अज्ञात हूँ
                  सत्य है तू एक मेरा
                       मैं तो मिथ्या गात हूँ !
1982
vPhoto

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें