समर्थक

मंगलवार, 16 जुलाई 2013

अंतःकरण



एक ही कक्ष है ,
                असंख्य झरोखे हैं 
हरेक झरोखे से
               असंख्य किरणे आती हैं 
असंख्य रंगों की ,
                       असंख्य वेगों की 
लेकिन इस कक्ष में अक्सर 
                      या तो अँधेरा छाता है या उजाला 
1980
Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें