समर्थक

मंगलवार, 16 जुलाई 2013

समय


समय रुकता नहीं है मैंने सुना था 
पर एक दिन मेरी रफ़्तार 
समय से तेज़ हो गयी 
और मैं कुछ क्षण के लिए 
एक पल के साथ हो गयी।
हांफते हुए मुझे देख कर वह 
अट्टहास करने लगा ..
मुझे लगा कि सब कुछ थम गया है 
हाँ उसने यही बताया ,नहीं -दिखाया 
कि वह नहीं बल्कि हम दौड़ते हैं ,
Photo
समयके भ्रम से घिरे दौड़ते रहते हैं 
और वह हमारे हर तरफ सदा रह कर 
अट्टहास करता रहता है .
हमें यत्र तत्र दौड़ा ,स्वयं विश्राम करता है 
चुप चाप समस्त सूत्र पात करता है 
वह कुछ नहीं करता ,नहीं कहता ,नहीं सुनता 
बस हमारे कहे शब्दों ,किये कर्मों को 
प्रतिध्वनित करता और प्रतिफलन करता है 
1980

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें