समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

मयंक


मैं शांत यामिनी हूँ
                  तुम हो मयंक मेरे !
घनघोर कालिमा हूँ ,
                   अविरक्त श्यामली हूँ
तुम ज्योति पुंज मेरे
                  तुम हो मयंक मेरे !
1982
Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें