समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

महाप्रणय

Photo: सुधि का दिया जलाए साथी जोह रही हूँ बाट तुम्हारे, मन का पीर' सुनावुं किसको तुम ही तो मन-मीत हमारे, तुम निर्बध प्रीति की संज्ञा, बनकर मेरा मन बहलाते, अपने मधु-मिश्रित बातों से, मेरे तन मन कों नहलाते, गहरे नींद नयन में आकर, हमने मधुर संजोए सपने, कोई दूजा और नहीं था, बस तुम थे, हाँ तुम  मेरे अपने, जब से आए हो जीवन में, मन का ये मधुमास खिला है, जिस्म दो होकर भी क्या है, दिल तो अपना एक मिला है'  कितना कठिन भुला पाना है, प्रिय तुम्हारी इन सुधियों कों ? तेरे चिंतन के सम्मुख  मै समझू ओछी सब सिद्धियों  कों...ॐ <3



 दीप जलाती
            महाप्रणय का
               पंथ निहारूं महादेव का ..
वह श्यामल,
          घातक अँधियारा
                 मेरे उर का
दीपशिखा सा
              यहाँ प्रज्ज्वलित
                 प्रेम देव का ..
विघ्न वरुण
           मत कम्पित कर
                       तू प्रेम शिखा को ,
अविचल ,
      ज्योतिर्मय अनंत 
                 कर दीपशिखा को ..
तृण -  तृण
            आलोकित कर दे
                         तू ह्रदय -नीड़ का ,
कण -कण
              स्वर्णिम बन चमके,
                           मेरे मंदिर का !
दीपशिखा सा
              यहाँ प्रज्ज्वलित
                            प्रेम देव का ..!
आह ,प्रतीक्षा
            महिम तुम्हारी !
दुर्गम पथ ,
             विचलन, लाचारी !
शाश्वत ,दुर्लभ प्रेम ईश का
                  चिर नवीन शुभ,  स्वप्न प्रणय का ..
                            दीप  जलाती महा प्रणय का ..!
1983

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें