समर्थक

बुधवार, 17 जुलाई 2013

काव्य सृजन

कविता ,
एक फल है
कहीं लटका हुआ 
एक पौधे पे ...
कई साल पहले,
 कोई बीज 
उड़  आया था 
मेरे आँगन की
 टूटी ईंटो के बीच,
अटक गया था आकर ,
मैंने परवाह
कभी की ही नहीं ..
लेकिन अब,
इसकी किस्मत बदली है 
मेरी एक चाहत है ,
एक ज़रूरत है -
दुकानों तक जाती हूँ ,
लौट आती हूँ ,
बागों में भटकती हूँ
पर कुछ नहीं पाती हूँ 
बस निराश,हताश ,
लौट आती हूँ 
और अक्सर सींचा करती हूँ 
नन्हे पौधे को ,
जब भी वक्त मिल जाए 
इस से प्यार करती हूँ 
और कब फल निकल आये 
'इंतज़ार करती हूँ..
1983
Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें