समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

सागर -मन


क्यूँ छलक रहीं शब्दों में
मन के सागर की लहरें ?
क्यूँ उमड़ -घुमड़ कर
अब भी ,आते तूफानी घेरे ?
मेरे आँगन के बादल ,
पानी मुझ पर बरसाते ,
मेरी बंजर धरती को ,
पर प्यास ही कर जाते ..
1982
Photo: Good morning world 
have a nice day ♥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें