समर्थक

गुरुवार, 25 जुलाई 2013

थामा मुझे


जब भी गिरने लगी
              आके थामा मुझे
तुमने गीत मेरे !
                जब भी बहकी,
तुम्ही ने सहारा दिया ,
                जब भी बहती हूँ ,
रोक लेते हो तुम .
             जब भी प्रतिशोध
उमड़ा है मन में कभी
             तुमने आकर नयी
 सीख दी है सदा !
                जब भी आक्रोश,
 मुझ को निगलने लगा
                  आके तुमने ही
मुक्ति दी ,शान्ति दी .
             आज भी, एक
तुम ही सहारे हो ,
               है बफा क्या ,
तुम्ही ने सिखाया मुझे !
                  तुम से बढ़ कर
बफादार है कौन और,
                जब भी भटकी
सदा प्यार मुझको दिया
                  जब भी गिरने लगी
 आके थामा  मुझे
              तुमने गीत मेरे !
1983
Photo: Good morning world ♥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें