समर्थक

मंगलवार, 16 जुलाई 2013

क्या करूँ ?


शब्द मेरे लय  तुम्हारी 
शब्द से जब अर्थ छूटे 
लय का मैं क्या करूँ ?
चित्र मेरा तुलिका तेरी 
चित्र से जब भाव रूठे ,
चित्र को क्या नाम दूँ ?
प्रति मेरी रीति तेरी 
प्रति का बंधन जो टूटे 
रीति का मैं क्या करूँ ?
साज तेरा राग तेरा 
साज का जब तार टूटे ,
राग का फिर क्या करूँ ?
ह्रदय तेरा प्राण तेरे 
ह्रदय ही हाथों से छूटे 
प्राण का मैं क्या करूँ ?
1978


Photo

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें